Podcast : अंकुर वाणी

कोविडनामा/ ये कहानियाँ उन बच्चे-बच्चियों और किशोरों-तरुणों की आवाज़ हैं, जो बहुमंज़िला इमारतों से घिरे शहरी मज़दूरों के रिहाइशी इलाक़ों में जीते हुए एक नई ज़ुबान और अपनी अभिव्यक्ति के नए रास्ते तलाश रहे हैं। कोविड-19 के नाम से जानी-पहचानी गई महामारी के दरमियान ये रिहाइशें सबसे ज़्यादा प्रभावित रहीं, लेकिन इस यातना और संघर्ष का दस्तावेज़ हमारी समकालीनता में लगभग अनुपस्थित है। अंकुर समूह के इन कहानीकारों ने इस अनुपस्थिति को अपनी अभिव्यक्ति से भरा है। इन कहानियों में देखने, समझने, बूझने, भोगने और कहने की आश्चर्यजनक अपील है। हमारी नई पेशकश ‘अंकुर वाणी’ के अंतर्गत इन कहानियों को सुनते हुए आप आपदा के उस पक्ष से रूबरू होंगे, जो प्रायः दृश्य में होते हुए भी दृश्य में दर्ज होने से रह जाता है।

पहली क़िस्त // बड़े लोगों की बिमारी
इस पॉडकास्ट में तहरीन बता रही हैं कि घने मज़दूर मोहल्ले में सामाजिक दूरी बरतना असंभव था। घरों के अंदर शौचालय का न होना एक बड़ी समस्या है। सार्वजनिक शौचालय में गंदगी की वजह से कोरोना के भी फैलने की संभावना थी, उस डर से बहुत से लोग खाने से भी परहेज रखने लगे। प्रत्येक घर में शौचालय की मौजूदगी का फ़र्क़ के कारण ही, घनी बस्तियों में रहनेवाले लोगों, स्वास्थ्य संबंधी जटिलताओं में फँसना पड़ता है।